आईसीएल सर्जरी – प्रक्रिया और फायदे

आईसीएल सर्जरी

आईसीएल सर्जरी – प्रक्रिया और फायदे

आईसीएल सर्जरी

आईसीएल सर्जरी क्या है? जाने प्रक्रिया एवं फायदे

आईसीएल (इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस) सर्जरी एक सुरक्षित और प्रभावी दृष्टि सुधार प्रक्रिया है जो उच्च मायोपिया (नज़दीकी दृष्टि) या मध्यम से उच्च हाइपरोपिया (दूरदृष्टि) वाले व्यक्तियों के लिए डिज़ाइन की गई है जो LASIK या PRK के लिए उपयुक्त उम्मीदवार नहीं हैं।

आईसीएल सर्जरी में, एक पतला, फ्लैट लेंस प्राकृतिक लेंस और आंख के रंगीन हिस्से (आईरिस) के बीच डाला जाता है। यह लेंस प्रकाश को रेटिना पर केंद्रित करके स्पष्ट दृष्टि प्रदान करता है।

आईसीएल सर्जरी आमतौर पर सुरक्षित और प्रभावी होती है। इस लेख में, हम आईसीएल सर्जरी की प्रक्रिया और इसके लाभों के बारे में जानेंगे।

विस्तृत आईसीएल सर्जरी की प्रक्रिया

  1. पूर्व-ऑपरेटिव मूल्यांकन: सर्जरी से पहले, आपके आँखों की जांच होगी ताकि आँखों की स्वास्थ्य, दवाओं की जरूरत और आँखों में आईसीएल सर्जरी के स्थापन के लिए इसका उपयुक्त आकार निर्धारित किया जा सके।  पूर्व-ऑपरेटिव मूल्यांकन के बाद डॉक्टर आपको सर्जरी के लिए एक डेट देंगे।
  2. एनेस्थेसिया: सर्जरी से पहले आपको लोकल एनेस्थीसिया दिया जाएगा ताकि सर्जरी के दौरान आपको कोई दर्द न महसूस हो।
  3. छोटा चीरा: सर्जन कॉर्निया के किनारे पर एक छोटा चीरा या कट बनाएंगे, ताकि वह आपकी आँखों पर ICL स्थापित कर सके।
  4. ICL स्थापना: सर्जन के द्वारा आपकी आँखों के भीतर  ICL स्थापित किया जाता है। यह लेंस आपकी आँख में स्थायी रूप से रहता है।
  5. ट्रांसफर और एक्सटेंशन: ICL को धीरे-धीरे इसके सही स्थान में रखा जाता है और यह आपकी आँख के अंदर फैलकर आपकी प्राकृतिक लेंस को ढक लेता है।

ICL सर्जरी की खास बात यह है कि यह प्रक्रिया पूर्णतः दर्द रहित है और कम समय में पूरी हो जाती है। आमतौर पर प्रक्रिया पूरी करने के लिए प्रत्येक आँखों में लगभग 15-30 मिनट का समय लगता है। इसके बाद, आपको अपनी दृष्टि में तुरंत सुधार दिखाई देगा।

सुधार को सुनिश्चित करने और ICL सर्जरी के लाभों को बढ़ाने के लिए अपने सर्जन के पोस्ट-ऑपरेटिव देखभाल निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करना बहुत ही जरूरी है। 

सर्जरी के बाद आपको थोड़े समय के लिए निगरानी में रखा जाएगा और साथ ही संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए आपको कुछ दवाइयां भी दी जा सकती हैं। 

आईसीएल सर्जरी के महत्वपूर्ण फायदे

ICL सर्जरी कई लाभ प्रदान करती है जैसे की: 

  1. तुरंत दृष्टि सुधार:  ICL सर्जरी का सबसे महत्वपूर्ण लाभ है कि प्रक्रिया के बाद दृष्टि में तुरंत सुधार होता है। बहुत से रोगी प्रक्रिया के बाद ही स्पष्ट दृष्टि महसूस कर पाते हैं।
  2. अधिक संभावित नतीजे: आईसीएल सर्जरी अपने बेहतर नतीजों के लिए जाना जाता है। सर्जन आपके आँखों के प्रिस्क्रिप्शन के अनुसार लेंस पावर की सटीक रूप से गणना कर सकते हैं, जिससे भरोसेमंद परिणाम मिलते हैं।
  3. स्थायी दृष्टि सुधार: आईसीएल आपकी आँखों में लंबे समय तक रहने के लिए डिज़ाइन की गई है। ये दृष्टि सुधार के लिए एक दीर्घकालिक समाधान प्रदान करते हैं और चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस की आवश्यकता को कम करते हैं या समाप्त कर देते हैं।
  4. कोई टिश्यू हटाने की आवश्यकता नहीं: अन्य कुछ दृष्टि सुधारक  प्रक्रियाओं की तरह, ICL सर्जरी में कॉर्नियल टिश्यू को हटाने या रिप्लांटेशन करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। यह उन व्यक्तियों के लिए उपयुक्त हो सकता है जिनकी कॉर्निया पतली या अनियमित होती है।
  5. विभिन्न रिफ्रैक्टिव त्रुटियों के लिए उपयुक्त: ICL विभिन्न रिफ्रैक्टिव त्रुटियों जैसे कि मायोपिया (निकट दृष्टि दोष), हाइपरोपिया (दूर दृष्टि दोष) और एस्टिगमैटिज्म आदि को सही कर सकती है। इससे यह बहुत सारे रोगों के लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प बनता है।
  6. रात की दृष्टि में सुधार: ICL सर्जरी के बाद कई मरीजों के रात की दृष्टि में भी सुधार पाया गया है। 
  7. UV सुरक्षा: कुछ ICLs में UV ब्लॉकिंग गुण होते हैं, जो हानिकारक अल्ट्रावायलेट किरणों से आपकी आँखों को सुरक्षा प्रदान करते हैं।
  8. न्यूनतम परेशानियाँ: रोगी आमतौर पर प्रक्रिया के दौरान और बाद में बहुत ही कम परेशानियों का अनुभव करते हैं। उपचार अपेक्षाकृत तेजी से होता है और अधिकांश मरीज़ कुछ दिनों के भीतर ही अपनी सामान्य गतिविधियों में लौट आते हैं।

आईसीएल सर्जरी की सावधानियां

आईसीएल सर्जरी, जिसे इसी नाम से भी जाना जाता है, एक प्रकार का नेत्र सर्जरी है जो दृष्टि की समस्याओं को ठीक करने के लिए की जाती है। यह नीचे दी गई सावधानियां आईसीएल सर्जरी के बारे में महत्वपूर्ण होती हैं:

  • सर्जरी से पहले और बाद में विशेषज्ञ नेत्र चिकित्सक से सलाह लें। उन्हें समस्या के संदर्भ में पूरी जानकारी दें।
  • सर्जरी से पहले डॉक्टर द्वारा दी गई सभी दवाओं के अनुसरण करें और किसी भी दवा को बिना विशेषज्ञ की सलाह के बंद न करें।
  • सर्जरी के बाद स्नायु नियंत्रण बनाए रखें। किसी भी जटिल गतिविधि से बचें और स्नायु तनाव को कम करने के लिए आराम करें।
  • सर्जरी से पहले और बाद में नेत्र संरक्षण के लिए स्वच्छता बनाए रखें।
  • सर्जरी से पहले, चश्मा या लेंसेस को सुरक्षित रखें और सर्जरी के बाद डॉक्टर के परामर्शानुसार इन्हें कब पहनें।
  • सर्जरी से कम से कम दो हफ्ते पहले कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल बंद कर दें।
  • सर्जरी के दिन मेकअप करने या परफ्यूम लगाने से बचें।

आईसीएल सर्जरी की सीमाएं

आईसीएल सर्जरी के कुछ महत्वपूर्ण सीमाएँ निम्नलिखित हो सकती हैं:

  • कुछ नेत्र संक्रमण, नेत्र रोग, या विकारों की स्थिति में यह सर्जरी अनुकूल नहीं हो सकती।
  • बाधित रक्तचाप, मधुमेह, या अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं में यह सर्जरी करना संकेत हो सकता है।
  • कुछ विशेष स्थितियों में इस सर्जरी की सीमाएं आयु से भी संबंधित हो सकती हैं।
  • सर्जरी से पहले, चिकित्सक से विशेषज्ञ सलाह लेना महत्वपूर्ण होता है। 
  • यह केवल नेत्र चिकित्सक या नेत्र सर्जन द्वारा ही की जानी चाहिए।

निष्कर्ष

आईसीएल सर्जरी एक जटिल प्रक्रिया है और इसे अनुभवी नेत्र सर्जन द्वारा किया जाना चाहिए। यदि आप आईसीएल सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो अपने डॉक्टर या नेत्र सर्जन से बात करें। वे आपके लिए सही निर्णय लेने में आपकी मदद कर सकते हैं। यदि आप एक अच्छे आई स्पेशलिस्ट से परामर्श  करना चाहते हैं तो प्लेनेट लेसिक में अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं अथवा कॉल कर सकते हैं।

Leave a comment

Planet LASIK » Blog » आईसीएल सर्जरी – प्रक्रिया और फायदे
lasik survey
Self Assessment
book lasik appointment
Book an Appointment
book lasik appointment
Locate Us